बड़ी खबर: 27 सितंबर को होगा बिहार बंद ! 20 और 21 सितंबर के लिए भी बड़ा ऐलान…

बिहार : जन अधिकार पार्टी के अध्यक्ष व पूर्व सांसद पप्पू यादव ने शनिवार को केंद्र सरकार के कृषि विधेयक का जमकर विरोध किया। साथ ही उन्होंने इसे खेती को अमीरों के हाथों गिरवी रखने वाला क़ानून बताया और इसके खिलाफ 27 सितंबर को बिहार बन्द का एलान किया। श्री यादव ने कहा कि केंद्र सरकार के इस काले क़ानून के खिलाफ 20 सितंबर को जन अधिकार पार्टी के कार्यकर्ता सभी जिला मुख्यालयों में प्रधानमंत्री का पुतला दहन करेंगे। अगले दिन यानी 21 को पोल खोल नुक्कड़ सभा होगी और 26 सितंबर को मशाल जुलूस निकाला जाएगा।

यह भी पढ़ें-

इंटर पास युवकों को भारतीय रेलवे में नौकरी, सैलरी 19900, अभी ऑनलाइन फॉर्म भरें

बिहार बोर्ड से Matric पास छात्रों को अब मिलेगा 25000 रूपये छात्रवृति, ऐसे करें Apply

Tamilnadu Postal Circle Recruitment डाक विभाग में 3000 से ज्यादा पदों पर भर्ती

डाक विभाग में 2000 से ज्यादा वैकेंसी, मैट्रिक पास नौकरी के लिए करें अप्लाई


उन्होंने किसानों के लिए ऐसा कानून बनाने को कहा ताकि उनका अनाज एमएसपी- न्यूनतम समर्थन मूल्य से कम पर न बिके। उन्होंने भरोसा दिलाया कि अगर उनकी सरकार बनती है तो सरकार किसानों से शत प्रतिशत अनाज खरीदना सुनिश्चित करेगी।

पप्पू यादव ने यादव ने प्रधानमंत्री पर सीधा आरोप लगाया कि इस काले कानून से वे अपने 10-12 चहेतों को लाभ पहुंचाना चाहते हैं। इस कानून की वजह से किसान अपनी ही ज़मीन पर महज़ मज़दूर होकर रह जाएगा। श्री यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को आड़े हाथों लेते हुए पूछा कि वे तरक़्क़ी की बात करते हैं जबकि आये दिन नवनिर्मित पूल ढह जा रहे। उन्होंने चुनौती दी कि मुख्यमंत्री ‘नीति आयोग’ की रिपोर्ट में बिहार की खराब रैंकिंग का जवाब दें। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और नरेंद्र मोदी दोनों किसान विरोधी है . इन्हें किसानों कि नहीं पूंजीपतियों कि चिंता है. जन अधिकार पार्टी इस काले कानून का पुरजोर विरोध करती है.

पप्पू यादव ने कहा की देश में 85 प्रतिशत किसान हैं। इस कृषि विधेयक से ऐसे किसानों को सबसे अधिक परेशानी होगी। इससे भंडारण में मज़बूत लोगों को जमाखोरी और कालाबाज़ारी का मौका मिलेगा। इसलिए इस किसान विरोधी सरकार से देश को बचाना ‘जाप’ की प्राथमिकता है। किसानों की बेहतरी के लिए उहोने अनुमंडल स्तर पर बाजार समिति को पुनर्जीवित करने का भी वादा किया . मौके पर राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष अख़लाक़ अहमद , ,राष्ट्रीय प्रधान महासचिव एजाज अहमद, प्रधान महासचिव राजेश रंजन पप्पू ,कार्यकारी अध्यक्ष राधवेन्द्र सिंह कुशवाहा, , प्रदेश उपाध्यक्ष अवधेश लालू मौजूद थे. इस दौरान हेमा श्रीवास्तवा ,निकहत सुल्ताना ,अतिकुर्र रहमान सहित कई लोंगों ने जाप कि सदस्यता ग्रहण कि .

Bihar: Jan Adhikar Party President and former MP Pappu Yadav on Saturday strongly opposed the Central Government's Agriculture Bill. At the same time, he called it farming as a mortgaging law in the hands of the rich and announced the closure of Bihar on 27 September. Mr. Yadav said that on September 20, the Jan Adhikar Party workers will burn effigy of the Prime Minister in all the district headquarters against this black law of the Central Government. On the next day i.e. on 21, there will be a pole open street corner and on 26 September a torch procession will be taken out.

He asked farmers to enact such a law so that their grain does not sell below the MSP-MSP. He assured that if his government is formed then the government will ensure to purchase 100 percent grain from farmers.

Pappu Yadav directly accused the Prime Minister that with this black law he wants to benefit his 10-12 followers. Because of this law, the farmer will remain a laborer on his own land. Taking a dig at Chief Minister Nitish Kumar, Mr. Yadav asked that he talk about progress while the newly constructed pool collapsed. He challenged the Chief Minister to respond to Bihar's poor ranking in the NITI Aayog report. Both Chief Minister Nitish Kumar and Narendra Modi are anti-farmer. They are worried about the capitalists and not the farmers. The Jan Adhikar Party strongly opposes this black law.

Pappu Yadav said that there are 85 percent farmers in the country. Such farmers will be the most troubled by this agricultural bill. This will give strong people in storage a chance of hoarding and black marketing. Therefore, 'Jap' is the priority to save the country from this anti-farmer government. He also promised to revive the Market Committee at the subdivision level for the betterment of farmers. National Executive President Akhlaq Ahmad, National Principal General Secretary Ejaz Ahmed, Principal General Secretary Rajesh Ranjan Pappu, Executive President Radhavendra Singh Kushwaha, State Vice President Awadhesh Lalu were present on the occasion. During this time, many people including Hema Srivastava, Nikhat Sultana, Atikurr Rahman took membership of Japa.

Previous Post Next Post