मोदी सरकार ने बढ़ाई ऐसी मुसीबत, आने वाली कई सरकारें चुकाएंगी कीमत- देखिए रिपोर्ट

Hosted . प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) की अगुआई सरकार भले ही अपने कार्यकाल की उपलब्धियों का बखान करती रहती है, लेकिन सवाल है की सच्चाई लोगों तक नहीं पहुँच पाती है, आइये देखिए रिपोर्ट-

Buy Wordpress Hosting

इस सरकार के दौर में एक ऐसी मुसीबत बढ़ गई है जिसकी कीमत आने वाली कई सरकारों को चुकानी पड़ेगी। मोदी सरकार के साढ़े चार साल के कार्यकाल पूरा होने के दौरान सरकार की कुल देनदारियां 49 फीसदी बढ़कर 82 लाख करोड़ रुपए तक पहुंच गई है। हाल में सरकारी कर्ज (Government Debt) पर जारी स्टेटस पेपर के 8वें एडिशन से यह बात सामने आई है।


नरेंद्र मोदी की सरकार पर कुल सरकारी कर्ज 82 लाख करोड़ रु सरकारी उधारी पर वित्त मंत्रालय (Finance Ministry) के डाटा में सितंबर, 2018 के आंकड़ों से तुलना की गई है। इसके मुताबिक सितंबर, 2018 तक केंद्र सरकार पर कुल 82.03 लाख करोड़ रुपए का कर्ज हो गया था, जबकि जून, 2014 तक सरकार पर कुल 54.90 लाख करोड़ रुपए का कर्ज था। इस प्रकार मोदी सरकार के दौरान भारत पर मौजूद कुल कर्ज लगभग 28 लाख करोड़ रुपए बढ़ गया है।

यह भी पढ़ें-अमेरिका और ईरान की लड़ाई में मोदी का बड़ा दांव, ऐसे कराई भारत को अरबों की कमाई पब्लिक डेट में सरकारी कर्ज बढ़ा इस अवधि के दौरान पब्लिक डेट में सरकारी कर्ज की हिस्सेदारी 51.7 फीसदी बढ़कर 48 लाख करोड़ रुपए से बढ़कर 73 लाख करोड़ रुपए हो गया। इसकी मुख्य वजह आंतरिक कर्ज 54 फीसदी की बढ़ोतरी के साथ 68 लाख करोड़ रुपए होना रही।

Previous Post Next Post