इंडिया टुडे के एंटी फेक न्यूज वॉर रूम (AFWA) ने पाया कि मुलायम सिंह यादव की मौत का यह दावा पूरी तरह से गलत है. 4 अक्टूबर, 2020 को समाजवादी पार्टी के पूर्व एमएलसी मुलायम सिंह यादव का निधन हुआ है, न कि पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के पिता और समाजवादी पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव का.

चर्चित विकीपीडिया ने भी सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव को ही मृत घोषित कर दिया. सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव के विकीपीडिया पेज का आर्काइव्ड वर्जन यहां देखा जा सकता है.

फेसबुक और ट्विटर पर भी दर्जनों सोश्ल मीडिया पेजों पर सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव की मृत्यु की खबर चला दी गई. ऐसे ही कुछ पोस्ट यहां और यहां देखे जा सकते हैं.

अखिलेश यादव के पिता मुलायम सिंह यादव की फोटो शेयर करते हुए एक यूजर ने लिखा, “पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं उत्तरप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव जी का निधन हो गया। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें.”

4 अक्टूबर, 2020 को समाजवादी पार्टी के मुलायम सिंह यादव नाम के जिस नेता की मृत्यु हुई, वे 92 वर्षीय पूर्व एमएलसी थे. 4 अक्टूबर को समाजवादी पार्टी ने अपने ट्विटर हैंडल के जरिये उन्हें श्रद्धां​जलि दी.

‘नवभारत टाइम्स’ की रिपोर्ट के अनुसार, मुलायम सिंह यादव सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव के खासे करीबी थे. वे तीन बार स्थानीय निकाय निर्वाचन क्षेत्र से विधान परिषद सदस्य और दो बार औरैया के विकासखंड भाग्यनगर के ब्लॉक प्रमुख रह चुके थे.

पड़ताल से साफ है कि सपा संस्थापक व अखिलेश यादव के पिता मुलायम सिंह यादव की मौत की खबरें पूरी तरह बेबुनियाद हैं. 4 अक्टूबर, 2020 को ​मुलायम​ सिंह यादव नामक जिस नेता की मृत्यु हुई है, वे समाजवादी पार्टी के 92 वर्षीय पूर्व एमएलसी थे.

Previous Post Next Post