बड़ी खबर: तेज-तेजस्वी बढ़ सकती है मुश्किलें, फर्जीवाड़ा का बड़ा आरोप… high speed can increase difficulties, big allegations of forgery


Hosted : बिहार विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण के तहत प्रदेश के 17 जिलों की 94 विधानसभा सीटों पर मंगलवार को शाम छह बजे तक 54.05 मतदान हुआ है। इसके साथ इस चरण में करीब 2.85 करोड़ मतदाताओं ने चुनाव मैदान में उतरे 1500 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला ईवीएम में बंद कर दिया है। राजधानी पटना में सबसे कम 48.24 प्रतिशत मतदान हुआ है। बता दें कि बिहार में 2015 में इन विधानसभा क्षेत्रों में 56.17% मतदान हुआ था।

इस बीच जदयू ने राज्य निर्वाचन आयोग में राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के प्रमुख लालू प्रसाद यादव के दोनों बेटे तेज प्रताप यादव एवं तेजस्वी यादव के खिलाफ मंगलवार को शिकायत दर्ज की। सूचना एवं जनसंपर्क मंत्री नीरज कुमार के नेतृत्व में आज जदयू के प्रतिनिधिमंडल ने तेजस्वी और तेज प्रताप यादव पर चुनावी हलफनामे में गड़बड़ी का आरोप लगाकर चुनाव आयोग (EC) से शिकायत की है।

जदयू के प्रतिनिधिमंडल ने चुनाव आयोग से आरजेडी के इन दोनों नेताओं के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। आयोग को दिये ज्ञापन में मुख्य चुनाव आयुक्त बिहार से मांग किया गया कि तेजस्वी यादव और तेज प्रताप यादव द्वारा दिये गये गलत हलफनामे की जांच की जाये। साथ ही लोक प्रतिनिधित्व कानून की धारा-123 (2) के तहत कार्रवाई की जाये। मुख्य चुनाव आयुक्त, बिहार, पटना ने प्रतिनिधिमंडल को आश्वस्त किया कि ज्ञापन को मुख्य चुनाव आयुक्त को सक्षम कार्रवाई के लिए तुरंत भेज दिया जायेगा।

ज्ञापन सौंपने के बाद मीडिया से बाचतीत में नीरज कुमार ने कहा कि विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव एवं तेजप्रताप यादव के द्वारा चुनावी हलफनामे में संपत्ति विवरण को छुपाया गया है। कहा कि विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव का यह आचरण राजनैतिक फ्राड जैसा है। जो अपनी संपत्ति छिपाएगा, राजनीति में उससे बड़ा ढ़कोसलेबाज कौन होगा। ऐसे राजनेता से बिहार की जनता और युवा क्या उम्मीद करेंगे?

Previous Post Next Post