डेस्क: जनता दल यूनाईटेड के राष्ट्रीय अध्यक्ष की कुर्सी रामचंद्र प्रसाद (RCP) सिंह को सौंपने के अगले दिन पार्टी की कोई बड़ी गतिविधि प्लान नहीं थी। मुख्यमंत्री को सोमवार को रूटीन के तहत अपने सरकारी कामकाज को देखते, लेकिन वह पहुंच गए जदयू दफ्तर और शुरू कर दिया राष्ट्रीय कार्यकारिणी के चुनिंदा नेताओं से वन-टू-वन। अरुणाचल प्रदेश में भाजपा के हाथों अपने 7 में से 6 विधायक खोने के बाद नीतीश कुमार ने पश्चिम बंगाल चुनाव का इंतजार करने की जगह अभी ही भाजपा के साथ भविष्य को लेकर रायशुमारी की।

भाजपा के किए-धरे पर रात में भी शांत नहीं रहा जनता दल यूनाइटेड पहले दिन राष्ट्रीय नेताओं के साथ बैठक और दूसरे दिन राष्ट्रीय कार्यकारिणी की पूरे समय बैठक के बाद सोमवार को जदयू दफ्तर में कोई बड़ा कार्यक्रम पहले से निर्धारित नहीं था। लेकिन, रविवार शाम राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में RCP की ताजपोशी कराने के साथ ही नीतीश कुमार ने अरुणाचल प्रदेश में भाजपा के किए-धरे पर कष्ट का इजहार भी कर दिया। भाजपा के नेता RCP को अध्यक्ष बनने पर बधाई देते हुए बिहार की NDA सरकार की और मजबूती की बात कर रहे थे, जबकि दूसरी तरफ जदयू के नए अध्यक्ष भाजपा को कड़े शब्दों में सीख दे रहे थे। यह भी बोल गए कि अब कोई इस तरह जदयू की पीठ में छुरा नहीं घोंप सकेगा। यह सब होने के बाद रविवार की रात भी मुख्यमंत्री आवास में अरुणाचल ही छाया रहा और अगले दिन सुबह के लिए तय हो गया कि नीतीश कुछ चुनिंदा नेताओं से एक-एक कर मिलेंगे।

Previous Post Next Post